FASTag KYC: अगर आप FASTag का इस्तेमाल करते हैं तो 31 जनवरी तक करा लें ये काम, नहीं तो देना होगा दोगुना टोल

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आदेश का उल्लंघन करते हुए एक विशेष वाहन के लिए कई फास्टैग जारी किए जाने और केवाईसी के बिना फास्टैग जारी किए जाने की हालिया रिपोर्टों के बाद एनएचएआई ने यह पहल की है।

Highlights
- 31 जनवरी से पहले हर हाल में फास्टैग की केवाईसी करानी होगी। 
- आप घर बैठे ऑनलाइन केवाईसी करा सकते हैं। 
- फास्टैग की केवाईसी अपडेट नहीं कराने पर यह ब्लैकलिस्ट हो सकता है। 

हटाने होंगे ये फास्टैग

बयान के मुताबिक, किसी भी तरह की असुविधा से बचने के लिए उपयोगकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके नवीनतम फास्टैग का KYC पूरा हो गया है। इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं को ‘एक वाहन, एक फास्टैग’ का भी पालन करना होगा और अपने बैंकों के माध्यम से पहले जारी किए गए सभी फास्टैग को हटाना होगा। इस संबंध में किसी तरह की सहायता या जानकारी के लिए फास्टैग उपयोगकर्ता अपने नजदीकी टोल प्लाजा या संबंधित जारीकर्ता बैंकों के टोल-फ्री ग्राहक सेवा नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

मंत्रालय ने जारी की एडवायजरी

मंत्रालय की ओर से फास्टैग को लेकर एडवायजरी जारी की गई है। इसमें कहा गया है कि जिन लोगों ने किसी न किसी तरह एक गाड़ी नंबर पर एक से ज्यादा फास्टैग जारी करा लिए हैं। इनमें से उनका एक ही फास्टैग चलेगा। इसकी भी उन्हें केवाईसी करानी होगी। वहीं बाकी के फास्टैग संबंधित बैंकों द्वारा आरबीआई के नियमों के तहत ब्लैकलिस्ट कर दिए जाएंगे। चाहे उनमें कितना भी पैसा क्यों न हो।

मौजूदा समय में फास्टैग के बिना गाड़ी को चलना बहुत ही मुश्किल है। अधिकांश रोड पर टोल का भुगतान करने के लिए फास्टैग जरूरी है। ऐसे में अगर आपकी गाड़ी में फास्टैग लगा है तो 31 जनवरी तक उसकी केवाईसी करा लें। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने सोमवार को कहा कि इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह प्रणाली की दक्षता बढ़ाने के अपने कदम के तहत, बिना केवाईसी वाले फास्टैग को 31 जनवरी के बाद बैंकों द्वारा निष्क्रिय या ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। ऐसा होने पर आप टोल पर फास्टैग से भुगतान नहीं कर पाएंगे। वहीं, बिना फास्टैग के टोल पर दोगुना टैक्स देना पड़ सकता है।

RBI की रिपोर्ट के बाद हरकत में NHAI

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आदेश का उल्लंघन करते हुए एक विशेष वाहन के लिए कई फास्टैग जारी किए जाने और केवाईसी के बिना फास्टैग जारी किए जाने की हालिया रिपोर्टों के बाद एनएचएआई ने यह पहल की है। एनएचएआई का निर्देश ‘एक वाहन, एक फास्टैग’ के तहत जारी किया गया है। इसका उद्देश्य कई वाहनों के लिए एकल फास्टैग का उपयोग करने या किसी विशेष वाहन से कई फास्टैग को जोड़ने के उपयोगकर्ता व्यवहार को हतोत्साहित करना है।

परेशानी से बचने के लिए केवाईसी करा लें

असुविधा से बचने के लिए, यूजर्स को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके नवीनतम फास्टैग का केवाईसी पूरा हो गया है। एनएचएआई के बयान में कहा गया है कि केवल नवीनतम फास्टैग खाता ही सक्रिय रहेगा। आगे की सहायता या प्रश्नों के लिए, फास्टैग उपयोगकर्ता निकटतम टोल प्लाजा या अपने संबंधित जारीकर्ता बैंकों के टोल-फ्री ग्राहक सेवा नंबर पर पहुंच सकते हैं। बयान में यह भी बताया गया कि फास्टैग को कभी-कभी जानबूझकर वाहन की विंडस्क्रीन पर नहीं लगाया जाता है, इसके परिणामस्वरूप टोल प्लाजा पर अनावश्यक देरी और असुविधा होती है।

‘एक वाहन, एक फास्टैग’ का पालन करना होगा

बयान के मुताबिक, किसी भी तरह की असुविधा से बचने के लिए उपयोगकर्ताओं को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके नवीनतम फास्टैग का केवाईसी पूरा हो गया है। इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं को ‘एक वाहन, एक फास्टैग’ का भी पालन करना होगा और अपने बैंकों के माध्यम से पहले जारी किए गए सभी फास्टैग को हटाना होगा। एनएचएआई ने कहा, ‘‘केवल नवीनतम फास्टैग खाता ही सक्रिय रहेगा क्योंकि पिछले फास्टैग 31 जनवरी, 2024 के बाद निष्क्रिय या प्रतिबंधित कर दिए जाएंगे।’’

8 करोड़ वाहन चालक फास्टैग का करते हैं इस्तेमाल

देशभर में आठ करोड़ से अधिक वाहन चालक फास्टैग का इस्तेमाल कर रहे हैं जो कुल वाहनों का लगभग 98 प्रतिशत है। इस व्यवस्था ने देश में इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह प्रणाली की रफ्तार काफी तेज कर दी है। एनएचएआई ने यह कदम एक वाहन के लिए कई फास्टैग जारी किए जाने और आरबीआई के आदेश का उल्लंघन करते हुए केवाईसी के बिना फास्टैग जारी किए जाने की हालिया रिपोर्टों के बाद उठाया है।

ये हैं नए नियम

नए नियमों के तहत लोगों का नवीनतम फास्टैग ही जारी रहेगा, बाकी सभी फास्टैग ब्लैकलिस्ट कर दिए जाएंगे। बताया गया है कि इससे टोलप्लाजा की कार्यकुलशता बढ़ जाएगी। कई लोगों ने एक गाड़ी के लिए एक से ज्यादा फास्टैग जारी करा लिए हैं। इससे टोल प्लाजा पर कई तरह की समस्याएं होती हैं। कुछ मामलों में इस तरह से टोल की चोरी भी की जा रही है।

मंत्रालय के मुताबिक, लोग फास्टैग की अपने-अपने बैंकों से केवाईसी जरूर करा लें। इसके बाद उन्हें दिक्कत हो सकती है। केवाईसी अपडेट कराने में अगर कोई समस्या आती है तो फास्टैग का इस्तेमाल करने वाले किसी भी पास के टोल प्लाजा या अपने उस बैंक के टोल फ्री कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करके जानकारी ले सकते हैं। जिसका वह फास्टैग इस्तेमाल कर रहे हैं।

Fore More Visit NHAI Website: National Highways Authority of India, Ministry of Road Transport & Highways, Government of India (nhai.gov.in)

Share via:
Facebook
WhatsApp
Telegram
X

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts

error: