पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान | Steps of Curriculum Development B.Ed Notes

पाठ्यक्रम निर्माण एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो शिक्षा क्षेत्र में अद्यतित और योग्यता के अनुसार शिक्षा प्रदान करने के लिए संचालित की जाती है। यह प्रक्रिया शिक्षा नीतियों, शिक्षा के मानकों और छात्रों की आवश्यकताओं के आधार पर संचालित की जाती है। पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान इस प्रक्रिया को संगठित करने में मदद करते हैं और उच्चतम शिक्षा मानकों की प्राप्ति को सुनिश्चित करते हैं।

Steps of Curriculum Development B.Ed Notes - Sarkari DiARY

पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान (STEPS OF CURRICULUM DEVELOPMENT)

किसी भी कक्षा या स्तर का पाठ्यक्रम तैयार करने के लिए प्रायः अलग-अलग लोगों की समितियाँ बनाई जाती हैं। ये समितियाँ विषय शिक्षकों से संपर्क करती हैं और उन सभी विषयों और उप-विषयों पर व्यवस्थित रूप से चर्चा करती हैं जिन्हें उन्हें पूरे वर्ष छात्रों को पढ़ाना है। पिछले कुछ सालों में उनके विचारों में काफी अंतर आया है. छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए विद्यालय और शिक्षक के मार्गदर्शन में छात्रों को मिलने वाले विषय-संबंधी सभी अनुभवों को पाठ्यक्रम में शामिल करना बहुत जरूरी हो गया है।

एक सन्तुलित पाठ्यक्रम के लिए आज निश्चित प्रक्रिया बनायी जाती है व उनसे गुजरकर एक सन्तुलित पाठ्यक्रम बनाया जाता है। ये मुख्य सोपान निम्नलिखित हैं-

पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान (Steps of Curriculum Development)

  1. उद्देश्यों का निर्माण (Formulation of objectives)
  2. पाठ्य-वस्तु और प्रकरणों का चुनाव व आयोजन (Selection and organization of contents and topic)
  3. समुचित अधिगम अनुभव सुझाना (Suggesting appropriate learning experiences)
  4. मूल्यांकन की उचित विधियों एवं तकनीकी सुझाव (Suggesting suitable methods and techniques for evaluation.)

उद्देश्यों का निर्माण (Formulation of objectives)-

पाठ्यचर्या का विकास उद्देश्यों के निर्माण से शुरू होता है। इस प्रकार किसी भी कक्षा या स्तर का पाठ्यक्रम तैयार करते समय सबसे पहले उस कक्षा या स्तर पर विषय पढ़ाने के प्राप्य उद्देश्यों को लिखा जाता है। अर्थात उद्देश्य को समझाने की दृष्टि से इसे दक्षता, ज्ञान, अनुप्रयोग, दृष्टिकोण या धारणा से संबंधित मुख्य श्रेणियों में विभाजित किया गया है। इसलिए पाठ्यक्रम के उद्देश्यों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है।

पाठ्यवस्तु और प्रकरणों का चुनाव एवं आयोजन (Selection and organisation of contents and topics)-

उद्देश्यों के निर्माण के पश्चात् पाठ्यवस्तु और प्रकरणों के उचित चुनाव की आवश्यकता होती है। उचित चुनाव के कार्यों अथवा आयोजन में पाठ्यक्रम के सिद्धान्तों का ध्यान रखना चाहिए। उचित आयोजन अथवा चुनाव के लिए निम्न सिद्धान्तों का ध्यान रखना चाहिए-

पाठ्यक्रम आयोजन के सिद्धान्त (Principles of Curriculum Organisation)

  1. तार्किकता अथवा मनोवैज्ञानिक क्रमबद्धता का सिद्धान्त (Principle of logical & Psychological order)
  2. क्रियात्मकता का सिद्धान्त (Principle of activity)
  3. कठिनाई का सिद्धान्त (Criterion of difficulty)
  4. आयोजित पढ़ाई का सिद्धान्त (Principle of organized study)
  5. व्यक्तिगत अथवा सामूहिक पढ़ाई का सिद्धान्त (Principle of individual & collective teaching)

समुचित अधिगम अनुभव सुझाना (Suggesting appropriate learning experiences.

पाठ्यक्रम विकास के उद्देश्यों को निर्धारित करने और सामग्री और विषयों के रूप में पढ़ाए जाने वाले विभिन्न विषयों को चुनने और व्यवस्थित करने के बाद, तीसरा मुख्य चरण उपयुक्त सीखने के अनुभवों की सूची बनाना है। सीखने के अनुभवों का चयन इस प्रकार किया जाना चाहिए कि विषय वस्तु एवं विषयों की मुख्य धारा से जुड़कर विषय शिक्षण के प्राप्य उद्देश्यों को भली-भांति प्राप्त किया जा सके। सीखने के अनुभवों की प्रकृति भी समुदाय की विशिष्ट आवश्यकताओं के आधार पर तय की जानी चाहिए। ऐसा विद्यार्थियों की रुचि, योग्यता तथा विद्यालय में उपलब्ध सुविधाओं के अनुरूप किया जाना चाहिए। सीखने के अनुभवों की पर्याप्तता का मूल्यांकन निम्नलिखित आधार पर किया जाना चाहिए:

  1. अधिगम अनुभव सुविधापूर्वक प्रदान किये जाने वाले होने चाहिए।
  2. अधिगम अनुभव स्वयं में पूर्ण सक्षम व प्रभावशाली होने चाहिए।
  3. अधिगम अनुभव विषय विशेष की पाठ्यवस्तु एवं प्रकरणों को ध्यान में रखकर चुने जाने चाहिए।
  4. उद्देश्यों को लक्ष्य बनाकर व्यवहार में जो अपेक्षित परिवर्तन लाने हैं अधिगम अनुभव उन्हीं के अनुकूल होने चाहिए।

मूल्यांकन की उचित विधियाँ एवं तकनीकी सुझाव (Suggesting suitable methods and techniques for evaluation)-

शिक्षा की तीन मुख्य प्रक्रियाएँ मानी गई हैं- वस्तुनिष्ठ निर्धारण, पाठ्यक्रम एवं मूल्यांकन। ये तीनों मिलकर अध्ययन और अध्यापन के लक्ष्यों को पूरा करते हैं और पाठ्यक्रम यानी विषय वस्तु, विषयों और सीखने के अनुभवों की मदद से उन्हें प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। हम अपने कार्य में किस हद तक सफल हो रहे हैं इसका पता मूल्यांकन से चलता है। मूल्यांकन के अंतर्गत जो कुछ भी पढ़ा या पढ़ाया जाता है उसे उससे बाहर नहीं किया जा सकता अर्थात पाठ्यक्रम को आधार मानकर ही मूल्यांकन तकनीक का निर्माण किया जा सकता है। मूल्यांकन से अभिन्न रूप से जुड़े होने के कारण पाठ्यक्रम बनाते समय रचनाकार को मूल्यांकन तकनीक का ध्यान रखना पड़ता है। सिद्धांतों और अनिवार्यताओं पर ध्यान देना चाहिए. एक अच्छे पाठ्यक्रम में मूल्यांकन से संबंधित आवश्यक निर्देश और सामग्री शामिल करना आवश्यक है ताकि गणित शिक्षक को विषय पढ़ाते समय समय-समय पर अपने छात्रों और स्वयं के शिक्षण का मूल्यांकन करने में आवश्यक सहायता मिल सके।

पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान महत्वपूर्ण हैं क्योंकि यह छात्रों को उच्चतम शिक्षा मानकों तक पहुंचने में मदद करते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि छात्रों को उनकी योग्यता और रुचि के अनुसार शिक्षा मिलती है और उन्हें अपने भविष्य के लिए तैयार करता है। इसलिए, एक अच्छे पाठ्यक्रम निर्माण के सोपान का चयन करना शिक्षा क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है।

Share via:
Facebook
WhatsApp
Telegram
X

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts