परियोजना कार्य | Project Method (B.Ed) Notes

परियोजना कार्य (PROJECT METHOD)

स्व-शिक्षण पद्धति के रूप में प्रोजेक्ट कार्य PLM, PSI और CAI की तुलना में कम व्यवस्थित पद्धति है। इसे प्रोजेक्ट विधि भी कहा जाता है. स्कूल में आप अपने विद्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के कार्य देते होंगे। इनमें से कुछ कार्यों को लंबी अवधि में पूरा करना होता है – मान लीजिए एक या दो सप्ताह और यह कार्य छात्र द्वारा एक रिपोर्ट के रूप में प्रस्तुत किया जाता है जो कुछ विशिष्ट अनुभवों के गहरे विचारों, सिद्धांतों या प्रक्रिया को दर्शाता है। के वर्णन से सम्बंधित है. इस प्रकार के असाइनमेंट को प्रोजेक्ट कार्य या प्रोजेक्ट विधि कहा जाता है। शब्दकोश में प्रोजेक्ट का अर्थ योजना या रूपरेखा तैयार करना है। प्रोजेक्ट कार्य के माध्यम से छात्र अनुभवात्मक शिक्षा प्राप्त करता है। इस प्रकार के कार्य के माध्यम से छात्रों को अपनी गति और समय से सीखने का अवसर मिलता है और वे अपने प्रोजेक्ट में काफी हद तक शिक्षक से स्वतंत्र रूप से भी कुछ कार्य करते हैं। प्रोजेक्ट एक प्रकार की जांच है जो विशेष रूप से छात्रों द्वारा की जाती है और इस कार्य में वे विभिन्न तरीकों (जैसे विश्लेषण, व्याख्या, योजना आदि) का उपयोग करते हैं। ताकि वह अपने ज्ञान, कौशल, व्यवहार आदि के संदर्भ में अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके और अपनी रिपोर्ट तैयार कर सके। आवश्यक उत्पाद को डिज़ाइन कर सकते हैं या उत्पाद का निर्माण कर सकते हैं और गतिविधि को व्यवस्थित कर सकते हैं या समस्या का समाधान कर सकते हैं, लेकिन उपरोक्त कार्य परियोजना के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए पूरे किए जाते हैं।

इसलिए, हम कह सकते हैं कि प्रोजेक्ट कार्य छात्रों के लिए योजना तैयार करने, अवलोकन लेने, विश्लेषण और संश्लेषण जैसे कार्यों में सहायक साबित होता है। इस प्रकार छात्र स्व-सीखने के अभ्यास में सक्षम हो जाते हैं। इस तरह वे वास्तविक जीवन के अनुभवों का अनुभव करते हैं और जीवन की किसी भी कठिनाई का समाधान स्वयं ढूंढ लेते हैं।

परियोजना कार्य के उद्देश्य (Objectives of Project Method)

परियोजना कार्य के उद्देश्यों को मुख्यत निम्न श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है-

  1. ज्ञान कौशल
  2. व्यक्तित्व के स्वाभाविक गुण ।

ज्ञान (Knowledge)—परियोजना कार्य विद्यार्थी को सहायता प्रदान करता है ताकि विद्यार्थी को विषय का ज्ञान हो और वह अध्ययन के उस क्षेत्र में प्रयुक्त विभिन्न तकनीकों की भी जानकारी प्राप्त करे।

कौशल (Skills)- परियोजना कार्य द्वारा विद्यार्थियों के निम्न कौशल विकसित किये जाते हैं- इसके द्वारा विद्यार्थी स्वतन्त्र रूप से कार्य कर सकता है जिसमें कार्य की योजना, विभिन्न जानकारियों को एकत्रित करना, ऑकड़े एकत्रित करना, सुसंगत सामग्री का चयन, इससे जुड़े विभिन्न प्रयोग करना, अनुदेशों को विभिन्न तरीकों द्वारा प्रस्तुत करना, करना, परिणामों का विश्लेषण करना, प्राप्त ज्ञान का संश्लेषण करना, प्रयोग के लिए तथ्य प्रस्तुत करना और अन्य आवश्यक कार्य करना शामिल है।

अवलोकन समूह में कार्य करने का कौशल सीखता है। इसके अन्तर्गत विद्यार्थी अन्य विद्यार्थियों के सम्पर्क में आता है और उसमें सहयोग की भावना जाग्रत होती है और वह अच्छे नागरिक की तरह व्यवहार करना सीखता है।

संप्रेक्षण कौशल अपने साथियों व निरीक्षकों से तर्क करना, विचारों का आदान-प्रदान करना आदि वाणी सम्बन्धी कौशल सम्मिलित हैं।

व्यक्तित्व के गुण (Qualities of Personality) परियोजना कार्यों द्वारा विद्यार्थी के स्वाभाविक गुण निखरते हैं जैसे विद्यार्थी की उच्च मानसिक क्षमताएँ तार्किक सोच, सृजनात्मक सोच मूल्यांकनपरक सक्षमता विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण और ‘भावनात्मक क्षमताएँ भी बढ़ती हैं जैसे अपने विषय के प्रति रुचि व सामाजिक संवेदनशीलता।

Share via:
Facebook
WhatsApp
Telegram
X

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts

error: