जेण्डर से आप क्या समझते हैं ? जेन्डर एवं सेक्स सम्बन्धी अवधारणाओं का विवेचन कीजिए ।

What do you understand by Gender? Discuss the concept of Gender and Sex.

जेन्डर (लिंग) और ‘सेक्स’ (यौन) दो भिन्न अवधारणाएँ हैं। लिंग शब्द का प्रयोग पुरुषत्व और स्त्रीत्व की सामाजिक रूप से निर्मित श्रेणियों का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिन्हें विभिन्न संस्कृतियों में अलग-अलग तरीके से परिभाषित किया गया है। यह पुरुषों और महिलाओं से संबंधित विभिन्न प्रकार की मान्यताओं और व्यवहारों की भी एक सूचक अवधारणा है। पिछले कुछ वर्षों से, सामाजिक विज्ञान में लिंग के सामाजिक पहलू को उसके जैविक पहलू से अलग करने और इसे ‘लिंग’ के रूप में समझने और अध्ययन करने की एक नई शुरुआत हुई है (यहाँ हम हिंदी में ‘लिंग’ और ‘लिंग’ का उपयोग करते हैं) ‘लिंग’)। हम ‘सेक्स’ के लिए ‘सेक्सुअल’ शब्द का प्रयोग करेंगे (सेक्स एक जैविक श्रेणी है, जबकि ‘लिंग’ एक सामाजिक रूप से निर्मित श्रेणी है)।

अन्न ओकले (सेक्स, जेन्डर एण्ड सोसायटी 1972) जिन्हें समाजशास्त्र में ‘सेक्स‘ शब्द को महत्व प्रदान करने का श्रेय प्राप्त हे, के अनुसार ‘सेक्स‘ का तात्पर्य पुरुषों एवं महिलाओं का जैविकीय विभाजन से है तथा ‘जेन्डर’ का अर्थ स्त्रीत्व एवं पुरुषत्व के रूप में समानान्तर और सामाजिक रूप में असमान विभाजन से है। अतः जेन्डर की अवधारणा महिलाओं और पुरुषों के बीच सामाजिक रूप से निर्मित भिन्नता के पहलुओं पर ध्यान आकर्षित करती है। किन्तु आजकल ‘जेन्डर’ का प्रयोग व्यक्तिगत पहचान और व्यक्तित्व को इंगित करने के लिए ही नहीं किया जाता, अपितु प्रतीकात्मक स्तर पर इसका प्रयोग सांस्कृतिक आदशाँ तथा पुरुषत्व एवं स्त्रीत्व सम्बन्धी रूढ़िबद्ध धारणाओं के लिए और संरचनात्मक अर्थों में, संस्थाओं और संगठनों में लैंगिक श्रम विभाजन के रूप में भी किया जाता है।

सन् 1970 के आसपास लिंग जेन्डर’ के अध्ययन में समाजशास्त्रीय और मनोवैज्ञानिक रूझान पैदा हुआ। अभी तक लिंग को मात्र स्त्री एवं पुरुष में जैविकीय भिन्नता के रूप में ही देखा जाता था तथा पुरुषत्व और स्वीत्व के बारे में महत्वपूर्ण सांस्कृतिक विचार रुविद्धता से ग्रस्त थे जिनकी यथार्थता से बहुत दूरी थी। इस सम्बन्ध में जो अध्ययन हुए उनके द्वारा यह प्रकट हुआ कि लिंग तथा महिलाओं एवं पुरुषों की भूमिका सम्बन्धी विचारों में भिन्न संस्कृति के कारण भारी अन्तर है। संरचनात्मक स्तर पर घरेलू श्रम विभाजन सम्बन्धी अध्ययनों ने भी स्त्री और पुरुष के बीच काम के वितरण में बड़ी असमानता प्रदर्शित की है ।

लिंग संबंध अलग-अलग समाजों में, ऐतिहासिक कालखंडों, नस्लीय और जातीय समूहों, सामाजिक वर्गों और पीढ़ियों में अलग-अलग रूप लेते हैं। फिर भी, सभी समाजों में पुरुषों और महिलाओं के बीच अंतर में समानता होती है, हालाँकि इस अंतर की प्रकृति बहुत भिन्न होती है। विविधताएं हैं. लिंग से संबंधित सबसे आम विशेषताओं में से एक लैंगिक असमानता है और यह विशेषता लगभग एक सार्वभौमिक विशेषता है। लिंग निर्माण सामाजिक जीवन के कई क्षेत्रों में व्यक्त किया जाता है। यह संस्कृति, विचारधारा और तार्किक अवधारणाओं तक सीमित नहीं है। घर में श्रम के लिंग विभाजन से लेकर श्रम बाजार तक, राज्य व्यवस्था में, यौन इच्छा में, हिंसा के निर्माण में और सामाजिक संगठन के कई पहलुओं में लिंग संबंध आकार लेते हैं। .

1970 के आसपास, लिंग भेद के अध्ययन में समाजशास्त्रीय और मनोवैज्ञानिक रुझान सामने आए। अब तक, लिंग भेद को केवल पुरुषों और महिलाओं के बीच जैविक अंतर के रूप में देखा जाता था और पुरुषत्व और स्त्रीत्व के बारे में महत्वपूर्ण सांस्कृतिक विचार रूढ़िवादिता से ग्रस्त थे जो वास्तविकता से बहुत दूर थे। बाद के अध्ययनों ने यह दिखाने का प्रयास किया कि विभिन्न संस्कृतियों के कारण लिंग भेद और पुरुषों और महिलाओं की भूमिकाओं के संबंध में विचारों में भारी अंतर है। संरचनात्मक स्तर पर, घरेलू श्रम विभाजन से संबंधित अध्ययनों ने पुरुषों और महिलाओं के बीच काम के वितरण में भी बड़ी असमानता दिखाई है।

समाजशास्त्र में ‘सेक्स‘ शब्द को महत्व प्रदान करने का श्रेय अन्न ओकले को जाता है। 1972 में प्रकाशित उनकी पुस्तक ‘सेक्स, जेण्डर एण्ड सोसायटी‘ के अनुसार ‘सेक्स’ का तात्पर्य पुरुषों और महिलाओं के जैविकीय विभाजन से है। ‘जेंडर‘ का अर्थ स्त्रीत्व एवं पुरुषत्व के रूप में समानान्तर और सामाजिक रूप से असमान विभाजन से है। अतः जेंडर की अवधारणा महिलाओं और पुरुषों के बीच सामाजिक रूप से निर्मित भिन्नता के पहलुओं पर ध्यान आकर्षित करती है। किन्तु वर्तमान समय में लिंग का प्रयोग व्यक्तिगत पहचान और व्यक्तित्व को इंगित करने के लिए ही नहीं किया जाता बल्कि इससे बढ़कर प्रतीकात्मक स्तर पर इसका प्रयोग सांस्कृतिक आदशों तथा पुरुषत्व एवं स्त्रीत्व सम्बन्धी रूढ़िबद्ध धारणाओं तथा संरचनात्मक अर्थों में, संस्थाओं और संगठनों में लैंगिक श्रम विभाजन के रूप में भी किया जाता है।

विभिन्न समाजों में लैंगिक संबंधों के भिन्न-भिन्न रूप होते हैं। फिर भी सभी समाजों, ऐतिहासिक कालखंडों, नस्लीय और जातीय समूहों, सामाजिक वर्गों और पीढ़ियों में पुरुषों और महिलाओं के बीच अंतर समान हैं, हालांकि इस अंतर की प्रकृति में काफी सामाजिक भिन्नता है। लिंग से संबंधित सबसे आम विशेषताओं में से एक लैंगिक असमानता है और यह विशेषता लगभग एक सार्वभौमिक विशेषता है। सामाजिक जीवन के कई क्षेत्रों में लिंग का निर्माण और अभिव्यक्ति होती है। यह संस्कृति, विचारधारा और तार्किक अवधारणाओं तक सीमित नहीं है। घर में श्रम के लिंग विभाजन से लेकर श्रम बाजार तक, राज्य की व्यवस्था में, यौन प्रवृत्ति में, हिंसा के निर्माण में और सामाजिक संगठन के कई पहलुओं में लिंग संबंध बनते हैं।

Share this post with your friends
Facebook
WhatsApp
Telegram
X
Pinterest

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts

error: