बोर्ड परीक्षा अब साल में दो बार, छात्र सर्वश्रेष्ठ स्कोर बरकरार रख सकते हैं: शिक्षा मंत्रालय की नई पाठ्यचर्या रूपरेखा

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने स्कूली शिक्षा के लिए एक नए पाठ्यक्रम ढांचे की घोषणा की है, जिसमें साल में दो बार बोर्ड परीक्षा आयोजित करना और छात्रों को अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाए रखने की अनुमति देना शामिल है। नया ढांचा राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 पर आधारित है,

जिसका उद्देश्य शिक्षा प्रणाली को अधिक समग्र और छात्र-केंद्रित बनाना है। वर्ष में दो बार बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के निर्णय का उद्देश्य छात्रों पर तनाव को कम करना और उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने के अधिक अवसर देना है। वर्तमान प्रणाली के तहत, छात्रों को वर्ष के अंत में एक ही बोर्ड परीक्षा देनी होती है, जो एक कठिन काम हो सकता है। नई प्रणाली से छात्र दो किस्तों में परीक्षा दे सकेंगे, जिससे उन्हें तैयारी के लिए अधिक समय मिलेगा और एक ही परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने का दबाव भी कम होगा।

नया ढांचा छात्रों को अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाए रखने की भी अनुमति देता है। इसका मतलब यह है कि यदि कोई छात्र दूसरी परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करता है, तो वह उस स्कोर का उपयोग अपने अंतिम ग्रेड के लिए कर सकता है। इससे छात्रों को कड़ी मेहनत से पढ़ाई करने और दोनों परीक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए अधिक प्रोत्साहन मिलेगा।

यह शिक्षा प्रणाली में सुधार और इसे अधिक छात्र-केंद्रित बनाने के सरकार के प्रयासों का हिस्सा है।

नया पाठ्यक्रम ढांचा, जो राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 पर आधारित है, का उद्देश्य छात्रों पर तनाव को कम करना और मूल्यांकन प्रक्रिया को अधिक समग्र बनाना है। दो बार वार्षिक परीक्षा अप्रैल और अक्टूबर में आयोजित की जाएगी, और छात्रों को अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाए रखने की अनुमति दी जाएगी। इससे उन्हें उस समय परीक्षा देने की सुविधा मिलेगी जब वे सबसे अधिक तैयार महसूस करेंगे।

कक्षा 11 और 12 में विषयों का चुनाव कला, विज्ञान और वाणिज्य जैसी धाराओं तक ही सीमित नहीं होगा। छात्रों को कई विषयों में चयन करने की सुविधा दी जाएगी। इससे उन्हें अपनी रुचियों को आगे बढ़ाने और अपने भविष्य के करियर के बारे में जानकारीपूर्ण विकल्प चुनने में मदद मिलेगी।

सरकार ने यह भी कहा है कि वह उचित समय में “ऑन-डिमांड” परीक्षा आयोजित करने की क्षमता विकसित करेगी। इसका मतलब यह है कि जरूरत पड़ने पर छात्र साल के किसी भी समय परीक्षा दे सकेंगे।

बोर्ड परीक्षाओं में सुधार भारत में शिक्षा प्रणाली में सुधार के एक बड़े प्रयास का हिस्सा है। सरकार को उम्मीद है कि ये बदलाव प्रणाली को सभी छात्रों के लिए अधिक न्यायसंगत और सुलभ बना देंगे।

वर्ष में दो बार बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

  • इससे छात्रों पर तनाव कम होगा और उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने के अधिक अवसर मिलेंगे।
  • यह मूल्यांकन प्रक्रिया को अधिक समग्र बनाएगा और याद रखने पर कम ध्यान केंद्रित करेगा।
  • यह छात्रों को उन विषयों को चुनने की अनुमति देगा जिनमें वे सबसे अधिक रुचि रखते हैं और अपने भविष्य के करियर के बारे में सूचित विकल्प चुन सकेंगे।
  • यह शिक्षा प्रणाली को सभी छात्रों के लिए अधिक न्यायसंगत और सुलभ बनाएगा।
  • व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकास पर बढ़ा जोर
  • पाठ्यक्रम में अधिक लचीलापन ताकि स्कूलों को इसे अपने छात्रों की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाने की अनुमति मिल सके। 

हालाँकि, कुछ चुनौतियाँ भी हैं जिन्हें नई प्रणाली लागू करने से पहले संबोधित करने की आवश्यकता है। इसमे शामिल है:

  • एक मजबूत मूल्यांकन ढांचा विकसित करने की आवश्यकता जो निष्पक्ष और विश्वसनीय हो।
  • यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि सभी स्कूलों के पास परीक्षा आयोजित करने के लिए संसाधन और बुनियादी ढाँचा हो।
  • बदलावों के लिए शिक्षकों और छात्रों को तैयार करने की जरूरत.

कुल मिलाकर, वर्ष में दो बार बोर्ड परीक्षा आयोजित करने का कदम भारत में शिक्षा प्रणाली में सुधार की दिशा में एक सकारात्मक कदम है। नई प्रणाली को लागू करने में आने वाली चुनौतियों का समाधान करना महत्वपूर्ण है ताकि यह सफल हो सके।

Share via:
Facebook
WhatsApp
Telegram
X

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts