सामाजिक लिंग से क्या आशय है? समझाइए अथवा सामाजिक लिंग को परिभाषित कीजिए।

पुरुष और महिलाओं के सांस्कृतिक और सामाजिक आधार पर लिंग की विचारधारा का मुख्य उद्देश्य यह है कि दुनिया भर में महिलाएँ उत्पादन के क्षेत्र में निरंतर अलाभकारी स्थिति में रहती हैं। उन्हें संतान को उत्पन्न करने के लिए एक मानव यंत्र या उपकरण के रूप में स्वीकार किया जाता है, जो कि प्राणिशास्त्रीय सिद्धांतों के आधार पर है। स्त्री और पुरुष के बीच न केवल श्रम और साधनों के स्वामित्व के मामले में मतभेद है, बल्कि साधनों और सेवाओं के उपयोग और उनके प्रयोग करने के तरीकों में भी पर्याप्त अंतर देखने को मिलता है। लिंग-विभेद वर्तमान समय में जीवन का सार्वभौमिक तत्व बन गया है। अनेक समाजों में, विशेषकर विकासशील देशों में, महिलाओं के साथ सामाजिक संगठन में प्रचलित विभिन्न कानूनों और रूढिगत नियमों के आधार पर विभेद किया जाता है, और उन्हें पुरुषों के समान राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों से वंचित किया जाता है।

सामाजिक लिंग की परिभाषा (Definition of Gender)

फेमिनिस्ट विद्वानों के अनुसार – “लिंग (सामाजिक) को स्त्री-पुरुष विभेद के सामाजिक संगठन या स्त्री-पुरुष के मध्य असमान सम्बन्धों की व्याख्या के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।”

सुप्रसिद्ध विचारक पेपनेक के अनुसार – “लिंग (सामाजिक) स्त्री-पुरुष से सम्बन्धित है जो स्त्री-पुरुष की भूमिकाओं को सांस्कृतिक आधार पर परिभाषित करने का प्रयास करता है, और स्त्री-पुरुष के विशेषाधिकारों से सम्बन्धित है सांस्कृतिक और ऐतिहासिक आधार पर लिंग सामान्यतः शक्ति सम्बन्धों का कार्य और असमानता का सामाजिक संगठन है।”

सामाजिक लिंग की अवधारणा व्याख्या (Concept of Gender Description)

भारत में पितृसत्तात्मकता और रूढ़िवाद के कारण महिलाओं के साथ प्रत्येक क्षेत्र में असमानतापूर्ण व्यवहार किया जाता है। प्रायः सभी क्षेत्रों में, वेतन के क्षेत्र में, शिक्षा के क्षेत्र में, और परिस्थितियों में उन्हें निम्न स्थान प्राप्त होता है। समाज में महिलाओं की कोई शक्ति नहीं है।

वास्तव में, महिलाएं जन्मदाता हैं और अगली पीढ़ी की सृजनात्मकता हैं। यदि उनका विकास अवरुद्ध होता है, तो देश का विकास भी अवरुद्ध होता है। महिलाएं विशेषकर प्रगतिशील देशों में अपने समाजों में प्राचलित विभिन्न कानूनों और परंपरागत नियमों के आधार पर विभाजित की जाती हैं, और उन्हें पुरुषों के समान राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों से वंचित किया जाता है।

सामाजिक लिंग-विभिन्न आयाम (Gender-Various Dimensions)

लिंग सम्बन्धी विभिन्न आयामों को समझने के लिए निम्नांकित तथ्यों की जानकारी आवश्यक है-

यह समाज में लिंग केन्द्रित विभाजन के प्रमुख विवाद को बताता है, जिसमें महिलाओं के साथ विभिन्न प्रकार की भेदभावना और अन्याय का सामना किया जाता है। यह एक गंभीर सामाजिक मुद्दा है जिसका समाधान उचित शिक्षा, सामाजिक उत्थान और सामाजिक विवेक के माध्यम से हो सकता है। जागरूकता, साक्षरता, और समाज में लिंग के खिलाफ भेदभाव के खिलाफ लड़ाई महत्वपूर्ण है। इसके लिए समाज के सभी सेगमेंटों में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है, ताकि महिलाओं को समाज में उनका वास्तविक स्थान मिल सके और वे समानता और न्याय के साथ अपने जीवन को निर्माण कर सकें।

  • नारी शरीर- विद्वानों ने नारी शरीर को अमूर्त एवं सार्वभौमिक कहा है। इतना ही नहीं, इसके विभिन्न प्राणीशास्त्रीय आयामों को भी दिखाने का प्रयास किया गया है। जबकि इसके विपरीत समाज में नारी शरीर को सांस्कृतिक अर्थ दिए जाते हैं। नारी शरीर को समाज एक सांस्कृतिक वस्तु मानता है, जिसके कारण कभी-कभी विरोधाभासी अर्थ सामने आते हैं। उनके शरीर से कई मायने जुड़े हुए हैं. उदाहरण के लिए, एक छोटी लड़की के शरीर का अर्थ एक किशोरी के शरीर से भिन्न होता है। उसी तरह एक शादीशुदा महिला के शरीर से भी अलग-अलग मायने जुड़े होते हैं। दरअसल, चूँकि स्त्री के शरीर का अर्थ एक व्यापक उत्पादन प्रक्रिया से जुड़ा है, इसलिए स्त्री के शरीर को न केवल नियंत्रित किया जाता है, बल्कि उसके शरीर के आँकड़ों में वर्गीकृत और मापा भी जाता है। इतना ही नहीं, इसे एक महिला के शरीर के विभिन्न अंगों, जैसे कमर, नितंब और स्तन आदि के विभिन्न मापदंडों को निर्धारित करके व्यक्त किया जाता है।
  • समाज में लैंगिक केन्द्रीयता– यह वर्तमान समाज की व्यवस्था का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसके माध्यम से स्त्री के शरीर को एक वस्तु बना दिया गया है जिसका उपयोग और उपभोग समाज की इच्छानुसार किया जा सकता है। एक लेखक के अनुसार, “लिंग का सामाजिक और सांस्कृतिक भेद संस्थागत है और यह भेद सार्वभौमिक है। इस अंतर को प्रकट करने के तरीके अलग-अलग देश और काल में अलग-अलग हैं। लेकिन हर समाज में इसके दुष्परिणाम केवल महिलाओं को ही भुगतने पड़े हैं।” उदाहरण के तौर पर, एक महिला अपने पुरुष साथी से अधिक काम करने के बाद भी परिवार और समाज में वह मुकाम हासिल नहीं कर पाती, जिसकी वह हकदार है। भारत में आज भी कुछ ऐसी जातियाँ और जनजातियाँ मौजूद हैं जिनमें पुरुष आराम करते हैं और उनकी महिलाएँ घर की देखभाल के अलावा अपने पूरे परिवार का भरण-पोषण करने के लिए दिन भर खेतों और अन्य आर्थिक कार्यों में लगी रहती हैं।
  • समाज में पुरुष वर्ग की लाभकारी अवधारणा – समाज में पुरुष वर्ग सदैव लाभप्रद स्थिति में रहा है। यहां तक कि सरकार द्वारा चलाये जा रहे कई विकासात्मक कार्यक्रमों का लाभ भी पुरुष वर्ग ही उठा पाता है। अधिकांश महिलाओं को इस संबंध में न तो कोई जानकारी है और न ही उनमें इतनी जागरुकता है कि वे स्वतंत्र रूप से इन कार्यक्रमों का लाभ उठा सकें। समाज में परिवार की संस्था ने भी पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को एक परस्पर बंधी हुई इकाई के रूप में निर्मित किया है। इतना ही नहीं, लिंग संबंधी स्थिति भी परिवार द्वारा प्रदान की गई है और इस संदर्भ में सामाजिक स्तरीकरण करते समय परिवार द्वारा महिलाओं को निम्न दर्जा दिया गया है। यही कारण है कि समाज में उनकी स्थिति अकल्पनीय दुर्दशा के स्तर पर पहुँच गयी है।
  • लिंग संबंधी आधुनिक एवं पारंपरिक अवधारणाएँ – आधुनिक समाज की वर्तमान स्थिति में मध्यम वर्ग की महिलाएँ आजकल नये-नये व्यवसायों, उद्यमों एवं नये-नये व्यवसायों से जुड़ रही हैं; जबकि पारंपरिक समाज की संस्थागत संरचना में महिलाओं को अभी तक अपने परिवार और समाज में अपेक्षित, उचित और महत्वपूर्ण स्थान नहीं मिल पाया है। आज भी महिलाओं की महिलाओं के प्रति आधुनिक पारंपरिक अपेक्षाओं के कारण महिलाओं की शारीरिक सुंदरता के प्रति पुरुषों का नजरिया अपरिवर्तित है। आज भी महिला वर्ग से यह अपेक्षा की जाती है कि वे अपनी शारीरिक सुंदरता को पुरुष वर्ग की माँगों और इच्छाओं के अनुसार परिभाषित और संशोधित करें।
  • समाज में प्रचलित लिंग भेद – आधुनिक युग के वर्तमान समाज में भी अनेक ऐसे रीति-रिवाज, तौर-तरीके, दृष्टिकोण, संस्थाएँ तथा संस्थागत वैचारिक मतभेद हैं। “ऐसे लोग हैं जो बहुत चालाकी से महिलाओं पर कई कलंक लगाते हैं। पारंपरिक समाज में विधवाओं की स्थिति, अविवाहित माताओं की स्थिति, तलाकशुदा महिलाओं की स्थिति, वेश्याओं और महिलाओं की स्थिति बहुत घृणित होती है, क्योंकि वे पीड़ित होती रही हैं।” जबरन बलात्कार की। ऐसी महिलाओं की स्थिति, दूसरी महिला या रखैल की स्थिति आदि ऐसे कई उदाहरण हैं जो महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों और पुरुषों की दोहरी मानसिकता की कहानी कहते हैं। इस संदर्भ में, पर्दा प्रथा, की प्रथा छुआछूत और रजोनिवृत्ति तथा शिशु जन्म (पहले चार सप्ताह) के संबंध में पुरुष समाज द्वारा लगाए गए कई प्रतिबंध समाज में महिलाओं की दोयम दर्जे और निम्न स्थिति की ओर ही इशारा करते हैं। इस प्रकार, इन प्रतिबंधों के माध्यम से महिलाओं के मन में एक नकारात्मक दृष्टिकोण पैदा होता है। समाज। इस प्रकार की हीन भावना की अच्छी तरह से भरपाई की जाती है।

संक्षेप में कह सकते हैं कि लिंग को सामाजिक तथा सांस्कृतिक संगठनों की स्थिति के आधार पर परिभाषित किया जा सकता है। लिंग के आधार पर स्त्री तथा पुरुषों के मध्य व्याप्त विभिन्नताएँ सामाजिक असमानता के संगठन से सम्बन्धित हैं। समाज में स्त्री पुरुषों की की अपेक्षा कमजोर प्राणी के रूप में स्वीकार किया गया है।

Share this post with your friends
Facebook
WhatsApp
Telegram
X
Pinterest

Related Posts

Leave a Comment

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Sarkari Diary WhatsApp Channel

Recent Posts

error: